Bal Bhawan, Near Karan Stadium, Nyaypuri, Karnal
balbhawanknl@gmail.com

Blog Detail

हिंदी महोत्सव- करोना के साकारात्मक व नाकारात्मक प्रभाव

जैसे कि हम-सब जानते हैं कि कोरोनावायरस एक महामारी है जो चीन के वुहान शहर से आई है। चूंकि यह एक संक्रमणिय रोग है । इसीलिए भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने लोकडाउन लगा रखा है । और लोकडाउन के कारण स्कूल भी बन्द है। इसीलिए विद्यार्थियों को फोन से शिक्षा ग्रहण करनी पड़ रही है। जिसे "online study" कहते हैं।इसके निम्नलिखित नाकारात्मक प्रभाव है । १. इससे संतुष्टि नहीं हो पाती। २.कुछ विद्यार्थियों के पास "स्मार्ट फोन" नहीं होता, जिस के कारण कुछ विद्यार्थियों को शिक्षा नही मिल पाती। ३.फोन पर काम करने से विद्यार्थियों की आंखों पर बुरा असर पड़ता है। ४.कुछ बच्चे पढ़ाई के लिए कहकर फोन ले लेते हैं और फोन में गेम खेलते हैं। ५ बच्चों को फोन में ४-५ घण्टे तक फोन में लगा रहना पड़ता। ६इससे पढ़ाई का नुक़सान होता है। आनलाइन पढ़ाई के साकारात्मक प्रभाव 👇 १.इससे घर बैठे पढ़ाई हो सकती है। धन्यवाद नाम= निशा कक्षा =८वीं स्कूल= राजकिय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय गोनदर करनाल पिता का नाम= श्री नरेश कुमार माता का नाम =श्रीमती सरोज देवी